Maharana Pratap Quotes In Hindi “महाराणा प्रताप के अनमोल विचार”

Maharana Pratap Quotes In Hindi dhund rahe ho. Yaha humne sare maharana pratap quotes daale hai aapke liye.

Maharana pratap Quotes in Hindi, Images and Status 2021

अगर इरादा नेक और मजबूत है ,
तो मनुष्य कि पराजय नही विजय होती है ।

~महाराणा प्रताप

अपनो से बङो के आगे झुक कर समस्त संसार को झुकाया जा सकता है ।

~महाराणा प्रताप

गौरव, मान- मर्यादा और आत्मसम्मान से बढ कर कीमती जीवन भी नही समझना चाहिए ।

~महाराणा प्रताप

 जो मनुष्य अपने कतर्व्य और इस सृष्टि के कल्याण के लिए सदैव प्रयत्नरत रहता है, उस मनुष्य को युग युगांतर तक स्मरण रखा जाता है ।

~महाराणा प्रताप

तब तक परिश्रम करते रहो जब तक तुम्हे तुम्हारी मंजिल न मिल जाये ।

~महाराणा प्रताप

अपने और अपने परिवार के अलावा जो अपने राष्ट्र के बारे मे सोचे वही सच्चा नागरिक होता है ।

~महाराणा प्रताप

अपने अच्छे समय में अपने कर्म को इतना विश्वासपात्र बना लो, जिससे बुरे वक्त में भी कर्म द्वारा आप बुरे समय को भी अच्छा समय बना लो ।

~महाराणा प्रताप

मातृभूमि और अपने माँ मे तुलना करना और अन्तर समझना निर्बल और मुर्खो का काम है ।

~महाराणा प्रताप

अन्याय,अधर्म,आदि का विनाश करना पुरे मानव जाति का कतर्व्य है ।

~महाराणा प्रताप

समय इतना बलवान होता है, कि एक राजा को भी घास की रोटी खिला सकता है । 

~महाराणा प्रताप

सम्मानहीन मनुष्य एक मृत व्यक्ति के सामान होता है ।

~महाराणा प्रताप

जो सुख मे अतिप्रसन्न और विपत्ति सेडर कर झुक जाते है, उन्हे ना ही सफलता मिलती है और न ही इतिहास मे जगह ।

~महाराणा प्रताप

जो अत्यंत विकट परिस्तिथत मे भी झुक कर हार नही मानते। वो हार कर भी जीते होते है ।

~महाराणा प्रताप

अगर सर्प से प्रेम रखोगे तो भी वो अपने स्वभाव के अनुसार डसेगाँ ही ।

~महाराणा प्रताप

अगर सर्प से प्रेम रखोगे तो भी वो अपने स्वभाव के अनुसार डसेगाँ ही ।

~महाराणा प्रताप

हर मां कि ये ख्वाहिश है, कि एक प्रताप वो भी पैदा करे। देख के उसकी शक्ती को, हर दुशमन उससे डरा करे ।

~महाराणा प्रताप

शत्रु सफल और शौर्यवान व्यक्ति के ही होते है ।

~महाराणा प्रताप

था साथी तेरा घोड़ा चेतक, जिस पर तु सवारी करता था। थी तुझमे कोई खास बात, कि अकबर तुझसे डरता था ।

~महाराणा प्रताप

जब-जब तेरी तलवार उठी, तो दुश्मन टोली डोल गयी। फीकी पड़ी दहाड़ शेर की, जब-जब तुने हुंकार भरी ।

~महाराणा प्रताप

जो दृढ़ राखे धर्म को तिही राखे करतार जो इण धर्म रो पालन करे वो हे मेवाड़ी सरदार ।

~महाराणा प्रताप

करता हुं नमन मै प्रताप को,जो वीरता का प्रतीक है। तु लोह-पुरुष तु मातॄ-भक्त,तु अखण्डता का प्रतीक है ।

~महाराणा प्रताप

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

x